menu close menu

About Rishi Ajaydas



जल,थल व नभ में जन्मे व जीवन जीने वाले समस्त जीवो के बीच परस्पर रचनात्मक अनन्त विभिन्नताये होते हुए भी इन सब में एक समानता है, वह है रक्त ! शरीर मे रक्त की उपलब्धता ही जीवन है! रक्त की कमी या विकार का अर्थ है - मृत्यु शरीर की धमनी एवं शिरा रुपी नाडियो मे दौडने वाला यह रक्त समुद्र रुपी ह्रदय में जमा होता है फिर पुन: शरिर को तरो ताजा बनाये रखता है,रक्त का महत्व संसार मे किसी से छुपा नही है! रक्त दान: - जिस प्रकार रक्त का महत्व है,उसी प्रकार सनातन धर्म में दान का महत्व सर्वोपरी है, जब ये दोनो महत्व आपसमे जुडते है तो ये बन जाते है, रक्त दान महादान ,जीवन दान मित्रो बहनो व भाइयो आपका यह दान एक ओर जहाँ किसी को नव जीवन देगा वहि दुसरी ओर बदले मे आपको देगा स्वस्थ शरीर,धर्म व पुण्य आपका रक्त दान आपके जीवन को सोभाग्य में बदलने के लिए किसी कि दुआ बन कर लोटेगा! इस हेतु विपाक्षा बहउद्धेशीय सेवा समिति, उज्जैन के तत्वाधान मे श्री ऋषि अजयदास कि प्रेरणा से दिनांक : 31/05/2015 को श्री अलख मेहर धाम शिवाजी पार्क कालोनी संत नगर सावेर रोड, उज्जैन पर विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन किया जा रहा है! इसमे अधिकाधिक संख्या में रक्तदान कर परमार्थ का लाभ उठावें!